HomeFestivalहोलिका दहन के समय खास तोर से इन बातो का रखे खयाल,...

होलिका दहन के समय खास तोर से इन बातो का रखे खयाल, दहन के समय ये गलती कभी नही करे

- Advertisement -

होली मनाने की परंपरा तब से चली आ रही है जब भगवान विष्णु ने नरसिंह अवतार लेकर भक्त प्रह्लाद की रक्षा की थी। होली का त्योहार दो दिनों तक मनाया जाता है। होलिका दहन पहले दिन किया जाता है और दूसरे दिन रंग की होली खेली जाती है। इस बार होलिका दहन रविवार 28 मार्च को किया जाएगा। ज्योतिषी रजत शर्मा के अनुसार, होलिका दहन के दिन 10 काम बेहद अशुभ माने जाते हैं।

होलिका दहन के दिन किसी को पैसे उधार देने की गलती न करें। इस दिन, पैसे और पैसे के लेनदेन के कारण पूरे वर्ष घर में धन की कमी होती है। ऐसा करने से घर की सुख-समृद्धि में भी कमी आती है।

अगर किसी महिला का एक ही बेटा है, तो उसे होलिका दहन की अग्नि को प्रज्वलित नहीं करना चाहिए। हालांकि, अगर एक महिला की एक बेटी और एक बेटी है, तो वह होलिका दहन की आग को प्रज्वलित कर सकती है।

होलिका दहन के दिन सफेद चीजों का सेवन करने से सख्ती से बचना चाहिए। इस दिन सफेद चीजों को भी न भूलें। सफेद चीजों से नकारात्मक शक्तियां जल्दी आकर्षित होती हैं। इसलिए सफेद मिठाई, खीर, दूध, दही या बथुए आदि का सेवन न करें।

India-Festival-Holi

होलिका दहन में आम, वट और पीपल की लकड़ी को जलाना बहुत ही अशुभ माना जाता है। दरअसल, इस मौसम में इन तीनों पेड़ों में नए कॉप्लेन्स आने शुरू हो जाते हैं, इसलिए इन्हें जलाना सही नहीं माना जाता है। आपको केवल गूलर या अरंडी के पेड़ की लकड़ी का उपयोग करना चाहिए। इसके अलावा आप गोबर के केक का भी उपयोग कर सकते हैं।

ज्योतिर्विद के अनुसार, होलिका दहन के दिन महिलाओं को ढकना चाहिए। वह चाहे तो अपने पुत्र की दीर्घायु के लिए इस दिन उपवास भी कर सकती है। ऐसा करने से भगवान कृष्ण को विशेष आशीर्वाद मिलता है।

होली पर अपनी माँ का अपमान करने से आपको जीवन में दुर्बलता का सामना करना पड़ सकता है। आप इस दिन अपनी मां को उपहार दे सकते हैं। ऐसा करने से, भगवान कृष्ण की कृपा से, आपकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा और प्रगति के नए मार्ग प्रशस्त होंगे।

ज्योतिषाचार्य के अनुसार, होली दहन के दिन व्यक्ति को अपने परिवार के साथ गेहूं और गुड़ से बनी रोटी खानी चाहिए। इस दिन काले चने का सेवन करने से भगवान शनि देव की विशेष कृपा मिलती है।

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त- इस बार होलिका दहन पर भद्रा की छाया नहीं होगी, जो काफी शुभ है। 28 मार्च को शाम 6.36 बजे से रात 8:30 बजे तक शुभ मुहूर्त है। वहीं, रात 8.30 बजे से रात 9:30 बजे तक अमृत काल होगा। शास्त्रों के अनुसार, होलिका दहन के लिए यह सबसे उपयुक्त समय होगा।

- Advertisement -

Must Read

- Advertisement -

Related News

- Advertisement -